थाइरोइड टोटल और फ्री थाइरोइड में क्या अंतर है

 1,742 total views

थाइरोइड टोटल और थाइरोइड फ्री में क्या अंतर है?

 T4 और T3 हमारे रक्त में मौजूद थाइरोइड हार्मोन दो रूपों में मौजूद होते हैं – जो एक वाहक प्रोटीन से बंधे होते हैं।

और दूसरे जो प्रोटीन से  “मुक्त” होता है जिन्हे हम free T4  और free T3 कहते हैं ।

बाध्य हार्मोन्स storage में है लेकिन जो हार्मोन प्रोटीन के साथ बंधे हुए होते हैं उनको हमारी कोशिकाएं use नहीं कर पाती  क्योंकि कोशिकाओं को अवशोषित करने के लिए प्रोटीन से “मुक्त” होना चाहिए।

जब तक प्रोटीन हट नहीं जाता है तब तक कोशिकाएं इसका उपयोग नहीं कर सकतीं और मुक्त T4 जरूरत पड़ने पर  T3 में परिवर्तित हो जाती है।

Thyroid disease

टोटल T4 और टोटल T3टेस्ट थाइरोइड हार्मोन के बाध्य और मुक्त भागों दोनों को मापते हैं।

टोटल टेस्ट  यह जानने का एक बहुत ही सटीक तरीका नहीं है कि हार्मोन कितना Free और उपयोग योग्य है, इसलिए Free T4 और Free T3  टेस्टों का उपयोग करके केवल मुक्त हिस्से को मापना बेहतर है।

 इससे सिर्फ फ्री थाइरोइड हार्मोन्स का पता लगाया जा सकता हैं, जिसे हमारी बॉडी जरूरत पड़ने पर उपयोग में ले सकती हैं ऐसे ही TSH का New method Ultrasentive  काफी महत्वपूर्ण माना जाता है TSH टोटल Method की अपेक्षा.

थाइरोइड रोग क्या हैं ?

थाइरोइड के लक्षण क्या-क्या होते हैं

थाइरोइड टेस्ट के लिए ब्लड सैंपल कब देना चाहिएI

थाइरोइड हार्मोन्स का बच्चों में क्या महत्व होता है?

थायरॉयड रोग से बचने के तरीके क्या हैं?

अब बात करते है दोनों के नार्मल रेंज की तो दोनों की नार्मल रेंज अलग-अलग होती है और नार्मल रेंज हमेशा उम्र और जेंडर के अकॉर्डिंग होती है मैंने नीचे थाइरोइड टोटल और थाइरोइड फ्री दोनों का नॉमर्ल रेंज चार्ट दिया हैI

आप वहां देख सकते हैं और ये नार्मल रेंज लैब के अकॉर्डिंग थोड़ी बहुत  ऊपर नीचे हो सकती हैI आप इस चार्ट से यह जान सकते हैं।

की आप का थाइरोइड नार्मल है या फिर बड़ा हुआ है अगर आपका थाइरोइड की रिपोर्ट में कौन सा पैरामीटर बड़ा हुआ है और नीचे मैंने एक चार्ट और दिया हुआ है।

जिसमे आप यह पता कर सकते हैं की किस पैरामीटर के बढ़ने से क्या प्रॉब्लम होती हैं और और कौन सा थाइरोइड होता हैं

थाइरोइड प्रोफाइल टेस्ट नार्मल वैल्यू

1- नीचे दिए हुए चार्ट में मैंने थाइरोइड टोटल की नार्मल वैल्यू के बारे में बात की है।

                         REFERENCE RANGE OF THYROID TOTAL TEST

TEST REFERENCE GROUP REFERENCE RANGE
T3 Total in ng/mL 0-3 days
4-30 days
1-11 months
1-5 years
6-10 years
11-15 years
16-20 years
> 20 years
1.00-7.40
Not Established
1.05-2.45
1.05 – 2.69
0.94-2.41
0.82-2.13
0.80-2.10
0.60-1.81
T4 Total in ug/Ml 1-3 days
4-7 days
1-2 weeks
15-30 days
1-4 months
4-12 months
1-5 years
5-10 years
10-15 years
> 15 years
11.80-22.60
Not Established
9.80-16.60
Not Established
7.20-14.40
7.80-16.50
7.30-15.00
6.40-13.30
5.60-11.70
5.01-12.45
TSH in uIU/mL 1-4 days
5 days – 5 months
5 months – 20
years
> 20 years
1.000-39.000
1.700-9.100
0.700 – 6.400
0.550 – 4.780

 

2-इस चार्ट में मैंने फ्री थाइरोइड के नार्मल वैल्यू की बात की हैं।

                REFERENCE RANGE OF THYROID PROFILE FREE TEST

TEST REFERENCE GROUP REFERENCE RANGE
T3 Free in pg/mL <18 years
> 18 years
2.60 – 4.80
2.30 – 4.20
T4, Free in ng/dL 1-4 days
5 days-5 months
5 months-20
years
>20 years
1.000-39.000
1.700-9.100
0.700-6.400
0.550 – 4.780
TSH, Ultrasensitive in uIU/mL 1-4 days
5-14 days
2 weeks – 20
years
> 20 years
2.20-5.30
Not Established
0.80-2.00
0.89 – 1.76

 

3- इस  नीचे दिए हुए चार्ट में मैंने डिजीज के बारे में बताया है ये चार्ट बहुत ही महत्वपूर्ण हैं क्योंकि बहुत सरे लोग रिपोर्ट देखने के बाद कंफ्यूज हो जाते हैं।

की उनकी रिपोर्ट में क्या आया और बो जब लैब वालो से पूछते तो वो बोल देते की आप अपने डॉक्टर से कन्फर्म कर लीजियेगा और जब डॉक्टर से पूछना चाहते तो डॉक्टर इतने बिजी होते हैं की वो बस मेडिसन लिख कर देते कुछ अच्छे तरीके से बताते नहीं की आपको क्या प्रॉब्लम हैI
तो आप इस चार्ट की मदद से ये जान सकते हैं की आपके थाइरोइड की रिपोर्ट में क्या आया हैं और कौन से पैरामीटर के बढ़ने या काम होने से क्या प्रॉब्लम होती हैं।

TSH FT4 OR T4 FT3 OR T3 CONDITION OR DISEASE 
NORMAL NORMAL NORMAL NORMAL/EUTHYROID
LOW HIGH HIGH/NORMAL HYPERTHYROIDISM
HIGH LOW LOW/NORMAL HYPOTHYROIDISM
LOW LOW LOW/NORMAL HYPOTHYROIDISM (SECONDARY) PROBLEM INVOLVING PITUITARY
HIGH HIGH HIGH PITUITARY TUMOR

4-इसमें मैंने थाइरोइड के कुछ मह्त्वपूर्ण एंटी बॉडीज की बात की जो की थाइरोइड हार्मोन्स के बढ़ने या कम होने पर डॉक्टर कराते हैं इन एंटी बॉडीज टेस्ट से यह पता लगाया जाता हैं की मरीज को कोई ऑटोइम्म्युने डिजीज तो नहीं हैं।

ANTIBODIES TEST NORMAL LEVEL INCREASED LEVEL DECREASED LEVEL
ANTI-TSH NO THYROID AND AUTOIMMUNE DISEASE GRAVES DISEASE
ANTI-TPO & ANTI-TG DO HASHIMOTO’S THYROIDITIS
THYROGLOBULIN (TG) GOITER GRAVES DISEASE THYROID DRUG TREATMENT

हाइपोथायरायडिज्म के क्या-क्या लक्षण होते हैं?

विडिओ देखने के लिए यहां क्लिक करें…

थाइरोइड एंटी बॉडीज टेस्ट विडिओ के लिए यहां क्लिक करें।

About Daya Shankar

I am Living in Delhi and I am a Medical Student.
View all posts by Daya Shankar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *