खून में आयरन की कमी के लक्षण कारण और उपचार

 3,426 total views


आयरन प्रोफ़ाइल टेस्ट क्या है? /What is the iron profile

आयरन एक प्रकार का खनिज है जो शरीर के सभी कोशिकाओं में पाया जाता है। आपको अपने आहार से आयरन की ज़रूरत होती है। एक बार आयरन शरीर में प्रवेश कर लेता है, यह ट्रांसफिरिन नामक प्रोटीन द्वारा आपके रक्तप्रवाह में चलाया जाता है, जो आपके लिवर से उत्पन्न होता है। TIBC परीक्षा मूल्यांकन करता है कि ट्रांसफिरिन आपके खून से कितने अच्छे तरीके से आयरन का प्रवाह कर रहा है।आपके रक्त में, आयरन हीमोग्लोबिन का निर्माण करने में मदद करता है। हेमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में एक महत्वपूर्ण प्रोटीन है जो पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है, ताकि यह सामान्य रूप से कार्य कर सके। आयरन को एक आवश्यक खनिज माना जाता है क्योंकि हीमोग्लोबिन बिना इसके नहीं बनाया जा सकता है।

आयरन (लोहे) की कमी के कुछ सामान्य लक्षण हैं। / SYMPTOMS OF IRON DEFICIENCY

  • अत्यधिक कमजोरी व थकावट का महसूस होना
  • पिला रंग पड़ना
  • अस्पष्टीकृत कमजोरी
  • जीभ में सूजन आना
  • दिल की धड़कन तेज़ होना
  • बाल झड़ना
  • साँस लेने में दिक्कत होना
  • सिरदर्द होना
  • हाथों व पैरों में दर्द और ठंडा होना


आयरन की कमी के कारण / एनीमिया के कारण / IRON DEFICIENCY CAUSES

आयरन की कमी का सबसे प्रमुख कारण पौष्टिक खाना ना खाने को ही माना जाता है। इसके अलावा कुछ अन्य बीमारियों की वज़ह से भी शरीर में खून की कमी हो जाती है।नीचे दी गई कुछ ऐसी परिस्थितियां हैं जिनमें एनीमिया हो सकता है :-

कुपोषण

अल्पाहार या कुपोषण: लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए कई प्रकार के विटामिन व मिनरल्स की जरूरत होती है, पौष्टिक खाना ना खाने से रेड- ब्लड सेल्स का निर्माण कम हो जाता है और हीमोग्लोबिन भी कम बनता है और व्यक्ति एनीमिया का शिकार बन जाता है। गर्भवती महिलाओं में कुपोषण के कारण एनीमिया की परेशानी हो सकती है।

विटामीन बी-12 की कमी: शरीर में विटामीन बी-12 की कमी से भी एनीमिया होने की संभावना होती है। शुद्ध शाकाहारी और लंबे व़क्त से शराब का सेवन करने वाले व्यक्ति को ज़्यादातर परनीसीयस एनीमिया होता है।

किडनी कैंसर: किडनी से एक प्रकार के हारमोन का उत्पादन होता है जिसे इरायथ्रोपोयॅटीन (Erythropoietin) कहते हैं। यह हार्मोन अस्थिमज्जा (Bone Marrow) को लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है। जिन लोगों को किडनी का कैंसर होता है, उनमें इरायथ्रोपोयॅटीन (Erythropoieti) हारमोन का निर्माण नहीं होता और इसकी वजह से रेड-ब्लड सेल्स का निर्माण कम हो जाता है जिससे व्यक्ति में एनीमिया की बीमारी हो सकती है।

रक्तस्राव की वज़ह से होने वाला एनीमिया: माहवारी(मासिक धर्म) के दिनों में अत्यधिक रक्तस्राव का होना, किसी घाव या चोट से खून का बहना, अल्सर और कैंसर इत्यादि में धीरे-धीरे ख़ून का लगातार निकलने से भी एनीमिया हो सकता है।

एनीमिया की कमी के कुछ अन्य कारण भी हैं:

दवाओं का दुष्प्रभाव
थायरॉयड की समस्या
लीवर की बीमारियां
लंबे समय से बीमार रहने पर
एड्स
टीबी (Tuberculosis)
किडनी व गुर्दे फेल हो जाने के कारण

 

एनीमिया से बचाव के घरेलु उपाय / TREATMENT OF IRON DEFICIENCY / FOODS FOR IRON DEFICIENCY 

  • एनीमिया से बचाव का सबसे अच्छा उपाय – पौष्टिक आहार लेना है। इसके साथ ही निम्न चीजों पर ध्यान देकर भी इस बीमारी से बचा जा सकता है:
  • हरी सब्जियां, फल व सलाद की मात्रा खाने में बढ़ाने से खून की कमी को दूर किया जा सकता है।
  • चुकंदर आयरन का सबसे अच्छा स्त्रोत है। इसको रोज सलाद या सब्जी के तौर पर खाने में खून की कमी नहीं होती।
  • हरी पत्तेदार सब्जी जैसे पालक, मेथी, गोभी, पत्तागोभी, शलजम और शकरकंद जैसी सब्जियां सेहत के लिए बहुत अच्छी होती हैं। इनके सेवन से खून भी बढ़ता और वजन भी सामान्य रहता है और पेट भी सही रहता है।
  • सूखे मेवे जैसे बादाम, खजूर और किशमिश का ज़्यादा प्रयोग करने से आयरन पर्याप्त मात्रा में रहता है।
  • फल जैसे खजूर, सेब, तरबूज, किशमिश, अंगूर और अनार खाने से भी खून बढ़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: