निपाह वायरस के लिये कौन सा टेस्ट किया जाता है और इसकी कीमत कितनी है?

 1,450 total views

निपाह वायरस क्या है और कैसे लोगों मे फैलता है?

 विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (WHO) के मुताबिक निपाह वायरस एक ऐसा वायरस है जो जानवरों से इंसानों में फैलता है। इस वायरस का मुख्‍य स्रोत चमगादड़ है जो फल खाते हैं। ऐसे चमगादड़ों को फ्लाइंग फोक्स के नाम से भी जाना जाता है।

Nipah virus
Nipah virus

यह  संक्रमण चमगादड़ और सुअर दोनो से फैलता है। फल और सब्जी खाने वाले चमगादड़ और सुअर के जरिये निपाह वायरस तेजी से फैलता है। इसका संक्रमण जानवरों और इंसानों में एक दूसरे के बीच तेजी से फैलता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया में निपाह वायरस के फैलने का सबसे अधिक खतरा है। केरल में मामले सामने आने के बाद देश में लोगों में दहशत मच गयी इस बीमरी को लेकर क्योंकि यह बीमारी लाइलाज है। संक्रमण के बाद बीमारी को बढ़ने से नहीं रोका गया तो 24 से 48 घंटे में मरीज कोमा में जा सकता है और उसकी मौत हो सकती है।

निपाह वायरस के लिये कौन सा टेस्ट किया जाता है?   

निपाह वायरस (NiV) के इंसानों में संक्रमण का पता चिकित्सीय जांचों द्वारा लगाया जा सकता है। निपाह के संक्रमण की जांच शुरुआती दौर से लेकर श्वसनतंत्र के गंभीर रूप से प्रभावित होने और जानलेवा इन्सेफेलाइटिस होने तक कराई जा सकती है।

निपाह वायरस के लिये वर्तमान में, टेस्ट की  सुविधा केवल मणिपाल में (MCVR) Manipal Centre for Virus Research में उपलब्ध है। टेस्ट की कीमत लगभग 5,000 रुपये – 6,000 है। विभाग ने मंगलुरु में भी ऐसी टेस्ट की  सुविधा उपलब्ध कराने की योजना बनाई है।

लेकिन WHO ने ये भी बोला है की इसके टेस्ट को एनआईवी  National Institute of Virology (NIV), पुणे में परीक्षण दोहराए जाने के बाद ही बीमारी को अंतिम रूप दिया जा सकता है।

निपाह वायरस के लिये Throat swab का सैम्पल लिया जाता है

इसके रिजल्ट Positive आने वाले लोगों की 70% डेथ हो जाती है.

निपाह वायरस के लक्षण – Symptoms of Nipah virus

  • ब्रेन में सूजन
  • बुखार
  • सिरदर्द
  • चक्‍कर
  • मानसिक भ्रम
  • सांस संबंधित समस्‍या
  • कोमाआदि

 कैसे करें बचाव निपाह वायरस से

– चमगादड़ या अन्‍य जीवों द्वारा झूठे किए गए फल ना खाएं. इसके लिए फल खरीदते समय ये देखें कि उसे किसी जीव या जानवर ने झूठा तो नहीं किया है.फल और सब्जियाँ खरीदते समय देख लें उन पर कोई निसान तो नही किसी के खाये होने का
– जहां फ्रूट बैट (चमगादड)  बड़ी संख्‍या में हों, उस जगह पर उगाए गए फल ना खाएं.


– मरीजों के संपर्क में आने से पहले दस्‍ताने और मास्‍क पहनें. हाथों को एंटी-बैक्‍टीरियल साबुन से धोएं.
– कुंओं और अन्‍य पानी के स्‍त्रोतों को साफ रखें. खुले स्‍त्रोतों से पानी पीना हो तो उसे उबालकर पीएं.
– अगर कोई ऐसा मरीज हो तो उसे अलग जगह पर रखें. बाकी लोगों को उसके संपर्क में बिल्‍कुल ना आने दें.अगर किसी की मौत हो जाती नीपाह वायरस से तो उसके लाश के पास न जाये अगर किसी बजह से जाना पड़े तो मास्‍क और दस्‍ताने पहनकर ही जाये.
– अगर आपके या आपके किसी परिवारजन को फ्लू की समस्‍या हो तो उसके लक्षणों पर नजर रखें. खुद उसका उपचार करने से बचें. डॉक्‍टर की सलाह रखें.

भारत सरकार क्या कर रही निपाह वायरस के लिये?  

Visit on YouTube Channel click here

 

1 thought on “निपाह वायरस के लिये कौन सा टेस्ट किया जाता है और इसकी कीमत कितनी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: