हेपेटाइटिस बी के प्रकार

 1,263 total views

हेपेटाइटिस बी कितने प्रकार का होता है

समान्यता हेपेटाइटिस दो प्रकार का होता है ये आपके रक्त मे वाइरस के मौजूद होने के समय के आधार पर आपको एक्यूट या क्रोनिक हेपेटाइटिस बी हो सकते है।

1- एक्यूट हेपेटाइटिस बी (Acute Hepatitis B)

एक्यूट हेपेटाइटिस बी का संक्रमण छ माह तक रह सकता है (चाहे इसके लक्षण दिखाई दे या न दें) संक्रमण ग्रस्त लोग इस समय के दौरान वाईरस दूसरों को लगा सकते हैं। लेकिन ये लिवर को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचता है। एक सादा ब्लड टेस्ट से , किसी को भी बता सकता है कि हेपेटाईटिस बी के वाईरस उसके रक्त में है या नहीं, या वे सफलतापूर्वक इस वाईरस से छुटकारा पा चुके हैं। आपके चिकित्सक जब आपको बताऐं कि अब आपके रक्त में हेपेटाईटिस बी के वाईरस नहीं हैं, तो दूसरों को इस संक्रमण की संभावना से बचाना महत्व रखता है।

2- क्रोनिक हेपेटाइटिस बी (Chronic Hepatitis B

कभी-कभी वायरस दीर्घकालिक संक्रमण का कारण बन जाता है, जिसे क्रोनिक हेपेटाइटिस बी कहा जाता है। यह लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है। वायरस से संक्रमित शिशुओं और छोटे बच्चों को क्रोनिक हेपेटाइटिस का खतरा अधिक होता है। छह महीने से अधिक समय तक वायरस से संक्रमित होने पर क्रोनिक हेपेटाइटिस बी होता है, केवल कुछ ही लोगों को यह होता है। यह एक गंभीर स्थिति है और क्रोनिक लीवर की क्षति से सिरोसिस का कारण बन सकता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
%d bloggers like this: